+1 800 123 45 67

अगर आप छात्र हैं या किसी सरकारी काम के लिए दफ्तरों के चक्कर लगा रहे हैं तो आपको Domicile Certificate शब्द की जानकारी जरूर होनी चाहिए। आप डोमिसाइल सर्टिफिकेट को स्थायी निवास प्रमाण पत्र यानी अधिवास प्रमाण पत्र के रूप में जान सकते हैं। कॉलेज में दाखिला लेने वाले या किसी भी सरकारी फॉर्म को भरने वाले किसी भी छात्र के लिए Domicile Certificate की आवश्यकता होती है जिसमें आपका निवास स्थान और राज्य प्रमाणित हो।

आइए इस लेख में विस्तार से बात करते हैं कि आप Domicile Certificate को ऑनलाइन या ऑफलाइन कैसे बनवा सकते हैं और इसके लिए आपको कौन सी प्रक्रिया का पालन करना होगा।

अधिवास प्रमाण पत्र(Domicile Certificate) क्या है?

अधिवास प्रमाण पत्र यानी रेजिडेंशियल सर्टिफिकेट एक ऐसा दस्तावेज है जिसके बिना कोई भी सरकारी काम पूरा नहीं होता है, ऐसे में अगर आप स्टूडेंट हैं या स्टूडेंट हैं तो फिर चाहे कॉलेज में दाखिला लेना हो या स्कॉलरशिप आदि का फॉर्म भरना हो तो अधिवास प्रमाण पत्र  की आवश्यकता है। यह जरूरी नहीं है कि आप छात्र हैं तभी आपको इसकी जरूरत है। किसी भी सरकारी काम में हर व्यक्ति को इसकी आवश्यकता होती है, जिसके कारण इसे सभी को बनाना पड़ता है।

डोमिसाइल सर्टिफिकेट को कई नाम दिए गए हैं जिनमें आपको भ्रमित होने की जरूरत नहीं है। अगर कोई आपसे Domicile Certificate मांगता है तो वह अधिवास प्रमाण पत्र या मूल निवासी प्रमाण पत्र ही मांग रहा है।

यह एक ऐसा दस्तावेज है जिसमें आपके पिछले 15 साल से एक ही राज्य में रहने का सबूत है। इसमें आपका नाम, पता, राष्ट्रीयता और आप यहां 15 साल से रह रहे हैं, बताया जाता है।

अधिवास प्रमाण पत्र के लिए आवश्यक दस्तावेज-

मूल निवास प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए आपको कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों की आवश्यकता होगी और उन दस्तावेजों की जानकारी नीचे दिए गए फॉर्म में दी गई है।

  1. आईडी प्रूफ-आपको कोई एक आईडी प्रूफ देना होगा जैसे आधार कार्ड ,वोटर आइडी कार्ड, अंक सूची
  2. मोबाइल नंबर-अधिवास प्रमाण पत्र की स्थिति एवं अन्य जानकारी प्राप्त करने के लिए मोबाइल नंबर देना होगा।
  3. दो फोटो - उम्मीदवार को आवेदन पत्र में डोमिसाइल सर्टिफिकेट के हाल के दो पासपोर्ट साइज फोटो चिपकाने होंगे।
  4. निर्धारित शुल्क-आवेदन के दौरान निर्धारित प्रमाण पत्र जारी करने के लिए आपको निर्धारित शुल्क का भुगतान करना होगा।
  5. एड्रेस वेरिफिकेशन के लिए कक्षा 10वीं और 12वीं के सर्टिफिकेट का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  6. स्व-घोषणा प्रमाण पत्र-अधिवास प्रमाण पत्र प्राप्त करने के लिए, आपको स्व-घोषणा प्रमाण पत्र की आवश्यकता होगी।

अधिवास प्रमाण पत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें -

यह प्रमाणपत्र आप घर बैठे ऑनलाइन बनवा सकते हैं और इसकी क्या प्रक्रिया है इसकी जानकारी हमने नीचे दिए गए फॉर्म में दी है और बताए गए आसान से स्टेप्स को फॉलो करके आप बहुत ही आसानी से अपना निवास प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकते हैं।

  1. आप जिस भी राज्य में रहते हैं और जिस राज्य में आप सर्टिफिकेट बनवाना चाहते हैं, आपको उस राज्य की ई-सेवा की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  2. सबसे पहले आपको उस आधिकारिक वेबसाइट पर अपनी लॉगिन आईडी बनानी होगी और यदि आपने पहले ही लॉगिन आईडी बना ली है तो आप उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड के माध्यम से आधिकारिक वेबसाइट में लॉगिन करें।
  3. अब आधिकारिक वेबसाइट पर ऑनलाइन पंजीकरण का फॉर्म खुल जाएगा।
  4. अब आवेदन पत्र में आपसे कुछ जानकारी मांगी जाएगी और आपको उन जानकारियों को एक-एक करके बहुत सावधानी से भरना है।
  5. ऐसा करने के बाद, आपको आधिकारिक वेबसाइट पर "सेव" नामक एक विकल्प दिखाई देगा और इस विकल्प पर क्लिक करके आपको सबसे पहले अपना आवेदन पत्र सहेजना चाहिए।
  6. अब आगे आपको एक नया पेज मिलेगा और इस नए पेज में आपको एक नया यूजर आईडी और पासवर्ड जेनरेट करने के लिए कहा जाएगा।
  7. अब आपके द्वारा दर्ज किए गए मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा और आपको उस ओटीपी को सत्यापित करना होगा।
  8. अब एक नया पेज खुलेगा और यहां आपको “Fill Application” नाम के विकल्प पर क्लिक करना है।
  9. अब यहां आपको “Residence” नाम का एक विकल्प दिखाई देगा और आपको इस विकल्प पर क्लिक करना है।
  10. अब इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद आपके सामने निवास प्रमाण पत्र खुल जाएगा और यहां आपको एक-एक करके ध्यान से पूछी जा रही सभी जानकारी भरनी है।
  11. अब अगले चरण में आपको सभी आवश्यक दस्तावेजों को एक-एक करके आधिकारिक वेबसाइट पर स्कैन करके अपलोड करना होगा और अंत में निर्धारित
  12. शुल्क का भुगतान करके अपना आवेदन जमा करना होगा।
  13. अब आपको अपने आवेदन की रसीद मिल जाएगी और आप या तो उस रसीद को डाउनलोड कर सकते हैं या उसका स्क्रीनशॉट लेकर उसे सुरक्षित रख सकते हैं।

अधिवास प्रमाण पत्र के लिए ऑफलाइन आवेदन कैसे करें-

अगर आप डोमिसाइल सर्टिफिकेट को ऑफलाइन बनवाने में खुद को सहज महसूस नहीं कर रहे हैं तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। स्टेप बाय स्टेप विस्तार से बताया गया है।

  1. डोमिसाइल सर्टिफिकेट बनवाने के लिए आप सीएससी सेंटर या अपने नजदीकी जिले की तहसील में जाकर आवेदन फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं.
  2. अब आपको आवेदन पत्र में पूछी जा रही जानकारी को एक-एक करके बहुत सावधानी से भरना होगा और साथ ही आवश्यक दस्तावेज भी आवेदन पत्र में उसी की एक प्रति के रूप में संलग्न करना होगा।
  3. एक बार जब आप अपने द्वारा दर्ज किए गए दस्तावेजों और सूचनाओं का सत्यापन स्वयं कर लेते हैं।
  4. अब लास्ट में अपने जिले की तहसील में जाकर इस आवेदन पत्र को संबंधित विभाग में जमा कर दें।
  5. अब आपके द्वारा दर्ज की गई जानकारी और दस्तावेजों को संबंधित अधिकारी द्वारा सत्यापित किया जाएगा।
  6. आवेदन पत्र को सत्यापित करने के बाद, आपका अधिवास प्रमाण पत्र 1 सप्ताह या 10 दिनों के भीतर जारी किया जाएगा और आप इसे संबंधित कार्यालय में जाकर प्राप्त कर सकते हैं।

अधिवास प्रमाण पत्र की स्थिति चेक कैसे करें-

यदि आपने Domicile Certificate (अधिवास प्रमाण पत्र) के लिए अपना आवेदन जमा कर दिया है और अपने आवेदन की स्थिति ऑनलाइन जांचना चाहते हैं, तो नीचे बताए गए आसान चरणों का पालन करें-

  1. इसके लिए आपको सबसे पहले अपने राज्य के ई-जिले की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  2. अब आपको आधिकारिक वेबसाइट के होमपेज पर ही “आवेदन स्थिति” नाम का एक विकल्प दिखाई देगा और आपको उस विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  3. अब आपको रिक्त बॉक्स में प्राप्त आवेदन संख्या दर्ज करनी होगी।
  4. अंत में आपको सर्च ऑप्शन पर क्लिक करना है और कुछ ही सेकंड में आपके आवेदन का स्टेटस आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा।

अधिवास प्रमाण पत्र बनाने के फायदे -

अधिवास प्रमाण पत्र यानी डोमिसाइल सर्टिफिकेट बनाने के कई फायदे हैं और उनमें से कुछ इस प्रकार है-

  1. सभी प्रकार की केन्द्रीय एवं राज्य योजनाओं का लाभ प्राप्त करने हेतु योजना के अभ्यर्थियों से मूल निवास प्रमाण पत्र की मांग की जाती है।
  2. स्कूल या कॉलेज में बच्चों के दाखिले के दौरान अधिवास प्रमाण पत्र जरूरी होता है।
  3. अधिवास प्रमाण पत्र छात्रों को सभी प्रकार की स्कॉलरशिप का लाभ दिलाने में बहुत मददगार होता है।
  4. अधिवास प्रमाण पत्र का सरकारी या गैर-सरकारी कार्यों में महत्वपूर्ण स्थान होता है।
  5. सरकारी या निजी क्षेत्र में नौकरी के लिए आवेदन करते समय हमें अधिवास प्रमाण पत्र की जरूरत होती है।
  6. आप किसी भी प्रकार के महत्वपूर्ण दस्तावेज जैसे जन्म प्रमाण पत्र, तिथि प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र और आधार कार्ड और वोटर आईडी कार्ड बनाने के लिए भी मूल निवास प्रमाण पत्र का उपयोग कर सकते हैं।
  7. कार बीमा का दावा करने के लिए अधिवास प्रमाण पत्र भी आवश्यक है।

Related Posts